Latest Posts

कोरोना बना काल, 24 घंटो मे हुई 44 लोगो की मौत, किशोरपुरा मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार के लिए वेटिंग, जगह कम पड़ी तो पास-पास जलाने लगे शव

Loading...

कोटा में कोरोना संक्रमण का खतरनाक रूप देखा जा रहा है। पिछले 5 दिनों से यहां प्रतिदिन 1 हजार से अधिक संक्रमित मरीज मिल रहे हैं। इन पांच दिनों में कुल 5975 नव संक्रमित मरीज मिले हैं। आंकड़ों के संदर्भ में, 3 दिनों में संक्रमण की दर 2.89% बढ़कर 18.36 हो गई है। सक्रिय मामले 4.28% बढ़कर 23.39% हो गए। वहीं, रिकवरी रेट 4.37% घटकर 75.93% हो गया है। 18 अप्रैल तक, संक्रमण दर 15.47%, सक्रिय मामला 19.11% और वसूली दर 80.30% थी। दूसरी ओर, पिछले 24 घंटों में कोविद के अस्पतालों में 44 मरीजों की मौत हुई है। किशोरपुरा मुक्तिधाम में परिवार को अंतिम संस्कार के लिए इंतजार करना पड़ता है। यहां इंतजार किया जा रहा है। जगह की कमी के कारण पास में ही दाह संस्कार करना पड़ता है।

जैसे ही कोरोना संक्रमण बढ़ता है, संक्रमित रोगियों की संख्या भी बढ़ रही है। अस्पताल में जगह की कमी के कारण मरीजों को ऑक्सीजन बेड नहीं मिल रहा है। उन्हें निजी अस्पतालों का रुख करना होगा। निजी अस्पतालों में भी कमोबेश यही स्थिति है। शहर की चिकित्सा व्यवस्था वेंटिलेटर पर आ गई है।

कोटा में कोरोना संक्रमण का खतरनाक रूप देखा जा रहा है। पिछले 5 दिनों से यहां प्रतिदिन 1 हजार से अधिक संक्रमित मरीज मिल रहे हैं

एक्टिव केस बढ़े, रिकवरी दर घटी

अप्रैल में, संक्रमण की दर 18.36% तक पहुंच गई है। यानी 100 नमूनों में 18 मरीज संक्रमित हो रहे हैं। अप्रैल के 21 दिनों में, 68,663 नमूनों की जांच में, 12,611 सकारात्मक पाए गए हैं। यानी हर दिन औसतन 600 मरीज संक्रमित होते हैं। जबकि 20% सक्रिय मामलों में वृद्धि हुई है और 20% वसूली दर में कमी आई है। 31 मार्च तक, 737 सक्रिय मामले थे। यानी 3.42% सक्रिय मामले थे। जो 21 दिनों में 7242 से बढ़कर 7979 हो गई है। यानी सक्रिय मामले 23.39% हो गए हैं।

इसी समय, 31 मार्च को वसूली दर 95.78% थी, जो इन 21 दिनों में 19.85% घटकर 75.93% हो गई है। जिले में अब तक 34104 कोरोना में से 25898 लोग दर्ज किए गए हैं। जबकि 227 मरीजों की मौत हुई है। बुधवार को 594 मरीज बरामद हुए।

8 घंटे में 25 मौत

कोविद अस्पताल में 24 घंटे में कुल 44 मौतें हुईं। 21 अप्रैल को सुबह 7 से शाम 5 बजे तक, 19 मौतें और 22 अप्रैल को सुबह 12 बजे से सुबह 7 बजे तक (8 घंटे में) सकारात्मक, नकारात्मक, संदिग्ध 25 मौतें हुई हैं। अस्पताल के अधीक्षक डॉ। सीएस सुशील ने कहा कि सरकारी रिपोर्ट में 24 घंटे के आंकड़े रिकॉर्ड में जाते हैं। 24 घंटे (12 से 12 बजे) में कोविद अस्पताल में 22 मरीजों की मौत हो गई। इनमें 5 पॉजिटिव मरीज थे।

इस तरह बढ़ा मौतों का आंकड़ा

सूत्रों के मुताबिक, 21 अप्रैल से 22 अप्रैल की सुबह 7 बजे तक नए अस्पताल में 25 मरीजों की मौत हो गई। इनमें से 21 अप्रैल की शाम 5 बजे तक 10 मरीजों की मौत हो गई, जबकि 15 मरीजों की मौत 12 अप्रैल को सुबह 7 बजे से 22 अप्रैल के बीच हुई। सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक (एसएसबी) के नए अस्पताल में 21 अप्रैल से 22 अप्रैल तक सुबह 7 बजे तक 19 मरीजों की मौत हो गई। इनमें से 21 अप्रैल की शाम 5 बजे तक 9 मरीजों की मौत हो गई थी। 22 अप्रैल को रात 12 से 7 बजे के बीच 10 मरीजों की मौत हो गई। अस्पताल प्रशासन का तर्क है कि रिकॉर्ड 24 घंटे के आंकड़े की रिपोर्ट करते हैं। आज का डेटा शाम 5 बजे रिपोर्ट किया जाएगा।

ऑक्सीजन की आपूर्ति कम होने के बाद देर शाम अस्पताल में पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया। अधिकारी देर रात तक ऑक्सीजन प्लांट की निगरानी करते रहे।

कारणों का नहीं पता

इन मौतों के पीछे के कारण स्पष्ट नहीं हैं। बताया जा रहा है कि इनमें से ज्यादातर मरीज गंभीर हालत में थे। उसे अन्य बीमारियाँ भी थीं। कई मरीज उच्च स्तर की ऑक्सीजन पर थे। बुधवार को अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति भी कम थी। जुगाड़ से ऑक्सीजन के सिलेंडर यहां-वहां लाए गए। सिलेंडर की रिफिलिंग में समय लग रहा था।

Latest Posts

Don't Miss